Wed. Jun 26th, 2019

गन लाइसेंस चाहिए? 10 पौधे रोपकर लो सेल्फी, ऐप्लिकेशन संग भेजो

ग्वालियर।अजयभारत न्यूज
ग्वालियर के जिला कलेक्टर अनुराग चौधरी ने यह ‘इको-फ्रेंडली’ ऑर्डर दिया है। ग्वालियर में इस वक्त लगभग 20 हजार गन लाइसेंस पेंडिंग है और हर महीने करीब 200 नए आवेदन आते हैं। ग्वालियर-चंबल क्षेत्र में बंदूक ही स्टेटस सिंबल का पर्याय है।
अगर आपको बंदूक के लिए लाइसेंस चाहिए तो 10 पौधे रोपिए और कम से कम एक महीने तक उसकी देखरेख करिए। इसके बाद उन पौधों के साथ सेल्फी लेकर ऐप्लिकेशन फॉर्म के साथ अटैच कर अप्लाई कीजिए। यह आदेश ग्वालियर के कलेक्टर की तरफ से जारी हुआ है।
घटती हरियाली और बढ़ते प्रदूषण की वजह से ग्वालियर के जिला कलेक्टर अनुराग चौधरी ने यह ‘इको-फ्रेंडली’ ऑर्डर दिया है। ग्वालियर में इस वक्त लगभग 20 हजार गन लाइसेंस पेंडिंग है और हर महीने करीब 200 नए आवेदन आते हैं। ग्वालियर-चंबल क्षेत्र में बंदूक ही स्टेटस सिंबल का पर्याय है।
—————————————-
कलेक्टर को भरोसा
कलेक्टर चौधरी ने कहा, ‘मैं मॉनसून के आने से पहले इस नियम को लागू करना चाहता हूं। मुझे भरोसा है कि लोग बंदूक के लिए पौधारोपण जरूर करेंगे। जिनके घर के पास जगह है, वे वहीं पर पौधारोपण करें और जिनके पास नहीं है उन्हें हम जगह उपलब्ध करा देंगे। इस बात की पुष्टि के लिए मैंने आवेदकों को पौधा रोपते समय और 30 दिनों के बाद की फोटो भी साथ लगाने का निर्देश दिया है।’
—————————————-
चंबल में गन कल्चर
चंबल बेल्ट में गन कल्चर पर लगाम लगाने के लिए पहले भी प्रशासन की तरफ से प्रयास किए जा चुके हैं। 11 साल पहले 2008 में शिवपुरी में कलेक्टर ने केवल उन पुरुषों को ही लाइसेंस जारी करने का निर्देश दिया था, जिन्होंने अपनी नसबंदी कराई हो। परिवार नियोजन पर इसका असर देखने को मिला और उस साल 200 पुरुषों ने ऐसा कराया था। हालांकि बाद में पुलिस वेरिफिकेशन में उनमें से कई अपराधी निकले, जिन्हें लाइसेंस नहीं दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *