Thu. Jul 18th, 2019

कुलैथ में जगन्नाथ जी की रथ यात्रा एवं विशाल मेला 4 व 5 को,रथयात्रा आज

ग्वालियर ।कुलैथ में विराजमान भगवान जगन्नाथ स्वामी की रथ यात्रा एवं वार्षिक मेला का भव्य आयोजन 4 व 5 जुलाई को शहर से 14 किलोमीटर दूर कुलैथ ग्राम में किया जाएगा। जगन्नाथ जी की रथयात्रा कल दिनांक 4  जुलाई को दोपहर 3 बजे से कुलैथ ग्राम में निकाली जाएगी।

उल्लेखनीय है कि कुलैथ स्थित जगन्नाथ मंदिर संत सांवलेदास जब सन् 1816 में 9 वर्ष के थे उस समय पूरा परिवार मर जाने से लावारिस हुये। उस समय 1816 से 1846 तक लगातार सात बार कनक दंडोत देते हुये कुलैथ से उडीसा जगन्नाथ पुरी आये जाने के योग संस्कार बने। उस समय जब सातवीं बार उडीसा पुरी पहुॅचे तब उनको आकाशवाणी से आदेश मिला कि अब मंदिर की स्थापना कुलैथ ही करवा लो तुम यहाॅ आया करो तेरे परिवार की सात पीढी तक मैं वही कायस्थ परिवार में रहूॅगा। हर वर्ष आषाढ माह में मैं रथ में बैठकर रथयात्रा करूंगा। उसी समय मेरी मूर्ति का वजन बढकर शक्ल बदला करेगी और चावल भरे मटके तेरे ऊपर अग्नि पर चावल पक जाने को रखने पर सबसे पहले सबसे ऊपर के मटके के चावल पका करेंगे। वे ही मटके मूर्ति समक्ष रखने पर अपने आप चार-चार भागों में फटेंगे जो मूर्ति में देवशक्ति की मौजूदगी की सूचक है। तभी से 1846 से यह चमत्कार दिखता चला आ रहा है।  मंदिर के पुजारी किशोरीलाल ने बताया कि हर वर्ष की भाॅति इस बार 04 व 05 जुलाई  को होने वाले रथयात्रा उत्सव में सभी चमत्कार देखने को मिलेंगे।

—————————————————————–

लक्ष्मी नारायण मंदिर :स्थापना दिवस मनाया

ग्वालियर ।हर बार की तरह इस बार भी जनक गंज स्थित श्री लक्ष्मी नारायण मंदिर का १८९  वां स्थापना दिवस मनाया गया । स्थापना दिवस के अवसर पर  सुबह  ५ बजे भगबान का अभिषेक किया गया जिसमे  भगवान  लक्ष्मी नारायण को  पंचा मृत  दूध दही से अभिषेक हुआ जिसमे आचार्यो के द्वारा मन्त्रजाप किया  गया। इस अवसर पर मौजूद भक्तो ने भगवान् श्री के दर्शन कर धर्म लाभ लिए शाम ५ बजे भगबान का विशेष श्रृंगार के बाद मंदिर के पट खोले गए साथ ही मंदिर पर साज सज्जा भी की गई  तथा रात्रि ९ बजे मंदिर में भगवान् श्री सत्य नारायण जी की कथा का रस पान भक्तो को कराया गया तथा  रात्रि १० बजे भगवान् की आरती के साथ प्रसाद वितरण हुआ । जिसमे सत्यनारायण का प्रसाद हलुआ  और फल भक्तो को वितरित किये गए  स्थापना दिवस की जानकारी देते हुए मंदिर के पुजारी  संजय लव्हाटे  ने बताया की १८९  वा  स्थापना दिवस है जिसको  मनाते हुए उनकी सातवीं पीढ़ी है जो निरंतर इस पर्व को मनाती चली आ रही है मंदिर में सारा दिन भजन-कीर्तन का भी आयोजन किया जाता है साथ ही इस समारोह में बड़ी संख्या में भक्त लोग अपनी हाजरी श्री   के चरणों में लगाकर धर्म लाभ लेते है

——————————————————————————-

मनुष्य स्वयं ही अपने भाग्य का विधाता है:राष्ट्रसंत

-तानसेन नगर स्थित न्यू कालोनी मे मुनिश्री के मंगल प्रवचन हुए

मनुष्य स्वयं ही अपने भाग्य का विधाता है। गुरु रूपी मांझी को अपनी जीवन रूपी नौका सौंप दें, तो भवसागर सरलता से पार हो जाएंगे। यदि व्यक्ति ऐसा करने का प्रयत्न नहीं करता तो वह अपना ही नाश करता है। भगवान को मन से कहना चाहिए कि है भगवान्त! मैं आपकी शरण हूं। आप ही मुझे संभालना। और तो सांसारिक कार्य जैसे करते हैं, करें। यह विचार राश्ट्रसंत मुनिश्री विहर्श सागर महाराज ने आज बुधवार को तानसेना नगर स्थित न्यू कालोनी गुरूभक्त अजय विजय जैन के निवास पर धर्मसभा को संबोधित करते हुए व्यक्त किए।मुनिश्री ने कहा ंिक गुरु मंत्र का जप मनुश्य अपने मन में करते रहें। कहीं कुछ छोड़कर जाने की जरूरत नहीं है। भगवान उसकी सार संभाल अपने आप करेंगे। औरों की निंदा न करना, अपने आपको ही सुधारना, जगत को सुधारने का भी व्यर्थ प्रयत्न करना। जगत को प्रसन्न करना उतना कठिन नहीं है। भगवान को अपना मन दे दें। मन ही तो सब कुछ है, मन सुधरा रहा तो हमारा कल्याण हो जाएगा। कलियुग से बचने का सबसे श्रेष्ठ उपाय है- नाम संकीर्तन।जैन समाज के प्रवक्ता सचिन जैन ने बताया ंिक मुनिश्री विहर्श सागर महाराज, मुनिश्री विजयेष सागर महाराज के गुरूभक्त अजय विजय जैन ने पद प्रक्षालन कर भव्य आरती उतारी कर आर्षिवाद लिया। जैन समाज के लोगो ने श्रीफल चढ़ाकर अर्षिवाद लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *